Your browser does not support JavaScript!

First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 110059 Delhi IN
Bookish Santa
First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 Delhi, IN
+918851222013 https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/63ff598ca28ce28f2242c957/logo_red-480x480.png" [email protected]
9788126730063 6422bff9d6b8b6028331fd06 Aapkamai https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/6422bffbd6b8b6028331fd46/book-rajkamal-prakashan-9788126730063-18239099240614.jpg गीत कहाँ है अब यहाँ / गीत जैसा कुछ है—गीतकार स्वानंद किरकिरे इस संग्रह की एक कविता की शुरुआत इन पंक्तियों से करते हैं। वे इधर की फल्मों के चहेते गीतकारों में से एक हैं, जिसकी वजह शायद यह ईमानदारी ही है? इन कविताओं की उपलब्धि भी और औज़ार भी यही ईमानदारी है। कवि के रूप में उन्होंने कहीं अपने व्यक्ति से बेईमानी नहीं की, न खुद से यह कहा कि वे शायर हैं,न यह कि गीतकार हैं, न यह कि कवि हैं।वे तेज़गाम दुनिया के बीचोबीच बैठे, अपने-आप के परदे से दुनिया को देख रहे हैं और वह जितना उन्हें समझ आ रही है, उसे लिख रहे हैं। कविताओं की इस पुस्तक को पढ़ना एक अनुभव है... और उम्मीद है हिन्दी का नया पाठकइसे अपनी अनुभव-सम्पदा में मोती की तरह जड़कर रखेगा। Hindi Books from Rajkamal Prakashan 9788126730063
in stockINR 100
Rajkamal Prakashan
1 1
Aapkamai

गीत कहाँ है अब यहाँ / गीत जैसा कुछ है—गीतकार स्वानंद किरकिरे इस संग्रह की एक कविता की शुरुआत इन पंक्तियों से करते हैं। वे इधर की फल्मों के चहेते गीतकारों में से एक हैं, जिसकी वजह शायद यह ईमानदारी ही है? इन कविताओं की उपलब्धि भी और औज़ार भी यही ईमानदारी है। कवि के रूप में उन्होंने कहीं अपने व्यक्ति से बेईमानी नहीं की, न खुद से यह कहा कि वे शायर हैं,न यह कि गीतकार हैं, न यह कि कवि हैं।वे तेज़गाम दुनिया के बीचोबीच बैठे, अपने-आप के परदे से दुनिया को देख रहे हैं और वह जितना उन्हें समझ आ रही है, उसे लिख रहे हैं। कविताओं की इस पुस्तक को पढ़ना एक अनुभव है... और उम्मीद है हिन्दी का नया पाठकइसे अपनी अनुभव-सम्पदा में मोती की तरह जड़कर रखेगा। Hindi Books from Rajkamal Prakashan
AuthorSwanandKirkire
LanguageHindi
PublisherRajkamal Prakashan
Isbn 139788126730063
Pages127
BindingPaperback
StockTRUE
BrandRajkamal Prakashan