First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 110059 Delhi IN
Bookish Santa
First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 Delhi, IN
+918851222013 https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/63ff598ca28ce28f2242c957/logo_red-480x480.png" [email protected]
9789386863454 6422bd94d6b8b60283313545 Pret Aur Chhaya https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/6422bd95d6b8b6028331358c/book-rajkamal-prakashan-9789386863454-19167598837926.jpg
पारसनाथ बोला- "मैं जल्दी किसी डॉक्टर को बुला लाता हूँ । तुम यहीं बैठी रहना । घबराना नहीं, मैं अभी आता हूँ ।”-यह कहकर सामने खूँटी पर टंगे छाते को लेकर वह चला गया । मंजरी हताश भाव से फर्श पर घुटने टेककर दोनों हाथों के सहारे खटिया के डण्डे पर सिर रखकर निश्चेष्ट अवस्था में आँखें बन्द करके बैठ गयी । बाहर झमाझम पानी बरस रहा था और भीतर संध्या के प्रायान्थकार में कराल मृत्यु की मौन छाया घिरी हुई थी । मंजरी को ऐसा मालूम हो रहा था, जैसे यह प्रेतों और छायाओ के किसी घोर दु:स्वप्न-लोक में किसी दुर्गम पहाडी पथ पर एकाकी चली जा रही हैँ-किसी अज्ञात रहस्यमय अनिर्दिष्ट स्थान में बसेरा दूँढ़ने के लिए; जैसे समय बहुत कम है और चलने में शीघ्रता न करने से अनन्त अन्धकारमयी कालरात्रि उसे चारों ओर से घेरकर अपने विकराल जबडों से ग्रस लेगी । वह हाँफती हुई, ठोकरें खाती हुई केवल चली जा रही हैँ-कहाँ से चली हैं, किस दिशा की ओर भागी जा रही है, कहाँ पहुंचने पर उसे विश्राम मिलेगा, इसका कुछ भी भान उसे नहीं है । बहुत देर तक उसी दु:स्वप्न की अवस्था में यह औंधे मुझेहाँह बैठी रही | --इसी पुस्तक से

9789386863454
in stock INR 440
Rajkamal Prakashan
1 1

पारसनाथ बोला- "मैं जल्दी किसी डॉक्टर को बुला लाता हूँ । तुम यहीं बैठी रहना । घबराना नहीं, मैं अभी आता हूँ ।”-यह कहकर सामने खूँटी पर टंगे छाते को लेकर वह चला गया । मंजरी हताश भाव से फर्श पर घुटने टेककर दोनों हाथों के सहारे खटिया के डण्डे पर सिर रखकर निश्चेष्ट अवस्था में आँखें बन्द करके बैठ गयी । बाहर झमाझम पानी बरस रहा था और भीतर संध्या के प्रायान्थकार में कराल मृत्यु की मौन छाया घिरी हुई थी । मंजरी को ऐसा मालूम हो रहा था, जैसे यह प्रेतों और छायाओ के किसी घोर दु:स्वप्न-लोक में किसी दुर्गम पहाडी पथ पर एकाकी चली जा रही हैँ-किसी अज्ञात रहस्यमय अनिर्दिष्ट स्थान में बसेरा दूँढ़ने के लिए; जैसे समय बहुत कम है और चलने में शीघ्रता न करने से अनन्त अन्धकारमयी कालरात्रि उसे चारों ओर से घेरकर अपने विकराल जबडों से ग्रस लेगी । वह हाँफती हुई, ठोकरें खाती हुई केवल चली जा रही हैँ-कहाँ से चली हैं, किस दिशा की ओर भागी जा रही है, कहाँ पहुंचने पर उसे विश्राम मिलेगा, इसका कुछ भी भान उसे नहीं है । बहुत देर तक उसी दु:स्वप्न की अवस्था में यह औंधे मुझेहाँह बैठी रही | --इसी पुस्तक से

Author IlachandraJoshi
Language Hindi
Publisher Lokbharti Prakashan
Isbn 13 9789386863454
Pages 292
Binding Hardcover
Stock TRUE
Brand Rajkamal Prakashan