Your browser does not support JavaScript!

First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 110059 Delhi IN
Bookish Santa
First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 Delhi, IN
+918851222013 https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/63ff598ca28ce28f2242c957/logo_red-480x480.png" [email protected]
8126705930 6422bfb5d6b8b6028331ef5a Samay Ka Hisab https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/6422bfb7d6b8b6028331ef9c/book-rajkamal-prakashan-8126705930-19206805618854.jpg

Samay Ka Hisab

जितना अचरज यह जानकर होता है कि पिछले करीब दो दशकों से लिखते रहने के बावजूद वंदना देवेन्द्र ने अब तक अपनी कोई भी रचना किसी पत्र-पत्रिका में नहीं दी है, उससे कहीं ज़्यादा अचंभा उनकी इन कविताओं की गहराई, वैविध्य और विस्तार को देखकर होता है। मसलन हम पूछते रह जाते हैं कि जिस कवयित्री ने 'छाते' और 'रँगे हाथ' सरीखी मृदु, गीतात्मक रचनाएँ दी हों वह 'राक्षस पहले राक्षस थे' या 'धूमिल' का स्मरण दिलानेवाली 'उत्तर प्रदेश' जैसी निर्मम, यथार्थवादी, राजनीतिपरक कविताएँ कैसे लिख सकी ? यदि 'विजेता' और 'राजा था कन्नौज' में वंदना इतिहास तथा सामंती मानसिकता को लेकर नये प्रश्न उठाती हैं तो 'ताजमहल के बाद' और 'कोई चिल्लाता है' में वे भारतीय और वृहत्तर मानव - इतिहास को एक विसंगति-भाव से देखती हैं, और 'समय का हिसाब' में वे इतिहास से भी आगे जाकर करोड़ों सूर्य, लाखों आकाशगंगाओं के बीच अपने कबाड़ के साथ हमारे प्रवेश की बात करती हैं और इससे पहले कि हम यह समझें कि वे 'बड़े' विषयों की महत्त्वाकांक्षी कवयित्री हैं, 'रंग बिरंगे पल' और 'कविता जैसा की उदास एकांतिकता उनकी निजी संवेदनशीलता का परिचय दिलाती है।

8126705930
out of stock INR 120
Rajkamal Prakashan
1 1
Samay Ka Hisab

Samay Ka Hisab

जितना अचरज यह जानकर होता है कि पिछले करीब दो दशकों से लिखते रहने के बावजूद वंदना देवेन्द्र ने अब तक अपनी कोई भी रचना किसी पत्र-पत्रिका में नहीं दी है, उससे कहीं ज़्यादा अचंभा उनकी इन कविताओं की गहराई, वैविध्य और विस्तार को देखकर होता है। मसलन हम पूछते रह जाते हैं कि जिस कवयित्री ने 'छाते' और 'रँगे हाथ' सरीखी मृदु, गीतात्मक रचनाएँ दी हों वह 'राक्षस पहले राक्षस थे' या 'धूमिल' का स्मरण दिलानेवाली 'उत्तर प्रदेश' जैसी निर्मम, यथार्थवादी, राजनीतिपरक कविताएँ कैसे लिख सकी ? यदि 'विजेता' और 'राजा था कन्नौज' में वंदना इतिहास तथा सामंती मानसिकता को लेकर नये प्रश्न उठाती हैं तो 'ताजमहल के बाद' और 'कोई चिल्लाता है' में वे भारतीय और वृहत्तर मानव - इतिहास को एक विसंगति-भाव से देखती हैं, और 'समय का हिसाब' में वे इतिहास से भी आगे जाकर करोड़ों सूर्य, लाखों आकाशगंगाओं के बीच अपने कबाड़ के साथ हमारे प्रवेश की बात करती हैं और इससे पहले कि हम यह समझें कि वे 'बड़े' विषयों की महत्त्वाकांक्षी कवयित्री हैं, 'रंग बिरंगे पल' और 'कविता जैसा की उदास एकांतिकता उनकी निजी संवेदनशीलता का परिचय दिलाती है।

AuthorVandanaDevendra
LanguageHindi
PublisherRajkamal Prakashan
Isbn 138126705930
Pages143
BindingHardcover
BrandRajkamal Prakashan