First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 110059 Delhi IN
Bookish Santa
First Floor, Pant Properties, Plot No. 2 & 3, A-1 Block, Budh Bazar Rd, Gandhi Chowk, Mohan Garden, Uttam Nagar, New Delhi, Delhi 110059 Delhi, IN
+918851222013 https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/63ff598ca28ce28f2242c957/logo_red-480x480.png" [email protected]
9788180313332 6422c025d6b8b6028332055b Sapno Ka Dhuan https://www.bookishsanta.com/s/63fe03d26a1181c480898883/6422c026d6b8b602833205a5/book-rajkamal-prakashan-9788180313332-19218804048038.jpg
सपनों का धुआँ राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की आजादी के बाद लिखी गईं कविताओं का संग्रह है । इस संग्रह में दिनकर जी की उन कविताओं को संकलित किया गया है जिनमें समकालीन स्थितियों के प्रति उनकी भावनात्मक प्रतिक्रिया सशक्त रूप में प्रस्फुटित हुई है । इस पुस्तक में जहाँ एक तरफ स्वराज से फूटनेवाली आशा की धूप और उसेके विरुद्ध जन्मे हुए असन्तोष का धुआं कविताओं में प्रतिबिम्बित होता है वहीं, दूसरी और एक विदुषी को लिखा गया कवि का गीत-पुंज भी है जो कवि के गहन चिन्तन के दस्तावेज के रूप में हमारे सामने आता है । मन-मस्तिष्क को उद्वेलित करनेवाली ये कविताएँ सभी पाठकों के लिए उपादेय हैं ।

9788180313332
out of stock INR 180
Rajkamal Prakashan
1 1

सपनों का धुआँ राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की आजादी के बाद लिखी गईं कविताओं का संग्रह है । इस संग्रह में दिनकर जी की उन कविताओं को संकलित किया गया है जिनमें समकालीन स्थितियों के प्रति उनकी भावनात्मक प्रतिक्रिया सशक्त रूप में प्रस्फुटित हुई है । इस पुस्तक में जहाँ एक तरफ स्वराज से फूटनेवाली आशा की धूप और उसेके विरुद्ध जन्मे हुए असन्तोष का धुआं कविताओं में प्रतिबिम्बित होता है वहीं, दूसरी और एक विदुषी को लिखा गया कवि का गीत-पुंज भी है जो कवि के गहन चिन्तन के दस्तावेज के रूप में हमारे सामने आता है । मन-मस्तिष्क को उद्वेलित करनेवाली ये कविताएँ सभी पाठकों के लिए उपादेय हैं ।

Author Ramdhari Singh Dinkar
Language Hindi
Publisher Lokbharti Prakashan
Isbn 13 9788180313332
Pages 159
Binding Hardcover
Brand Rajkamal Prakashan