Skip to content

Main Krishna Hoon - Vol 2 - Mathura Mein Mere Sangharshsheel Jeevan Ki Daastan

Rs. 279.00

(View Condition Chart)

Eligible for Free Shipping | Free 10 Days Replacement

Delivery in 3-10 Days | Earn Free Reading Points

Author: Deep Trivedi

Binding: Paperback

Languages: English

Number Of Pages: 352

Publisher: Aatman Innovations

ISBN: 9789384850395

About: ‘मैं कृष्ण हूँ - मथुरा में मेरे संघर्षशील जीवन की दास्तां’ बेस्टसेलर ‘मैं मन हूँ’ के लेखक दीप त्रिवेदी द्वारा लिखित ‘मैं कृष्ण हूँ’ किताब का दूसरा भाग है। इसमें कृष्ण द्वारा मथुरा में किए संघर्षों का रोचक वर्णन है तथा इसमें कृष्ण के जीवन से जुड़े कुछ अहम सवालों के जवाब मिलते हैं जैसे: कृष्ण ने कंस को क्यों मारा? कृष्ण को मथुरा से क्यों भगाया गया? कृष्ण और रुक्मिणी का प्यार क्या था? कृष्ण और सत्यभामा का संबंध क्या था? ‘मैं कृष्ण हूँ’ के पहले भाग को पाठकों ने सराहा तथा इसे क्रॉस्वर्ड बुक अवार्ड्स 2018 के नॉन-फिक्शन पोपुलर केटेगरी के लिए नामांकित भी किया गया है। ‘मैं कृष्ण हूँ’, कृष्ण के जीवन को सिलसिलेवार रूप से दर्शाती है और उनके हर कृत्य के पीछे के सायकोलॉजिकल पहलुओं को समझाती है। यह किताब कृष्ण की आत्मकथा है जिसमें बताया गया है कि कैसे कृष्ण ने अपने मन की शक्तियों के सहारे सभी चुनौतियों को मात दी और हर विपरीत परिस्थिति में विजय हासिल की। पहले व्यक्ति के दृष्टिकोण से लिखी गई इस किताब की सबसे खास बात यह है कि इसमें कृष्ण जैसे अद्भुत और विलक्षण प्रतिभा वाले व्यक्ति के जीवन की सायकोलॉजिकल गहराइयों का पता चलता है। चूंकि किताब के लेखक स्पीरिच्युअल सायकोडाइनैमिक्स के पायनियर हैं, इसमें आवश्यक स्थानों पर कृष्ण की सम्पूर्ण सायकोलॉजी को दर्शाया गया है जिससे पाठकों को यह स्पष्ट होता है कि कृष्ण ने क्या किया तथा क्यों। इस किताब को लिखने में 15 से भी अधिक पौराणिक ग्रंथों का अध्ययन किया गया है जैसे: महाभारत, शतपथ ब्राह्मण, ऐतरेय आरण्यक, निरुक्त, अष्टाध्यायी, गर्ग संहिता, जातक कथा, अर्थशास्त्र, इंडिका, हरिवंश पुराण, विष्णु पुराण, महाभाष्य, पद्म पुराण, मार्कंडेय पुराण और कूर्म पुराण...।

(The product details have been sourced from Goodreads)

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)