Skip to content

MantraViddh Aur Kulta

(Paperback Edition)

by RajendraYadav
Sold out
Original price Rs. 45.00
Current price Rs. 36.00


* Eligible for Free Shipping
* 10 Days Easy Replacement Policy
* Additional 10% Saving with Reading Points
(View Condition Chart)

मन्त्रविद्ध और कुलटा - राजेन्द्र यादव इस किताब में प्रख्यात कथाकार राजेन्द्र यादव के एक साथ दो लघु उपन्यासµ‘मन्त्रविद्ध’ और ‘कुलटा’ संगृहीत है । ‘मन्त्रविद्ध’ प्यार की खुरदरी कहानी हैµआज की मूर्तिकला की तरह–––तारक और सुरजीत कौर के बीच एक तीसरा ‘व्यक्ति’ और है, और वह है प्यार ! तारक अपने को समझाते हुए, दूसरे आदमी की निगाह से सारी स्थिति को देखता है और स्वयं आतंकित रहता है कि क्या सचमुच वीरता का वह क्षण उसी ने धारण किया था––– ‘कुलटा’ प्यार के एक दूसरे धरातल की व्यथा–कथा है । मिसेज तेजपाल, जैसे अकेले पहाड़ी झरने के एकान्त किनारों और घाटियों की हरियल सलवटों की अँगड़ाई लेती भूलभुलैया–––मखमली बाँहें और रेशमी बाल–––एक अप–टू–डेट अभिजात सौन्दर्यमयी नारी––– लेकिन उसने तो अपने पवित्र प्यार की ही राह चुनी थी । यह स्त्री के अपने चुनाव की कहानी है जिसको हमारा आधुनिक समाज कोई मान्यता नहीं देता । यदि वह अपनी राह स्वयं चुनती है तो उसके लिए कोई क्षमा नहीं है । इसे ही वह चुनौती देती है !–––मिसेज तेजपाल पागल और कुलटा नहीं तो क्या है?


Related Categories: Hindi Books Newest Products

More Information:
Publisher: Radhakrishna Prakashan
Language: Hindi
Binding: Paperback
Pages: 177
ISBN: 8171198554

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)