Skip to content

Matrichhabi

(Paperback Edition)

by MahashwetaDevi
Original price Rs. 125.00
Current price Rs. 100.00


* Eligible for Free Shipping
* 10 Days Easy Replacement Policy
* Additional 10% Saving with Reading Points
(View Condition Chart)

माँ' सिफ़र् एक संबंधवाचक शब्द नहीं, बल्कि बरगद की वृक्ष की तरह इसकी विशालता है। जिसकी असंख्य जड़ें हैं, जो जमीन में मजबूती से पैठ कर अपने हर छोटे तने को पेड़ बनते देखती है। महाश्वेता देवी की 'मातृछवि' में माँ रूपी बरगद के अनेक तने हैं जिनमें उसके भिन्न- भिन्न रूप दिखाई देते हैं। इसमें कौशल्या है जो अपनी ज़मीन के लिए, अपने अधिकार के लिए हसुआ लेकर अकेले पूरे गाँव का नेतृत्व करती है और अपनी ज़िन्दगी न्योछावर कर देती है। वहीं जाह्नवी माँ हैं, जिन्हें जीते-जी देवी अवतार का रूप बताकर उनके पोते उनकी कमाई खाते रहते हैं और असल में उन्हें एक कोठी में बंदकर खाने के लिए भी तरसाते हैं। 'मातृछवि' सिफ़र् माँ के भिन्न रूपों को नहीं गढ़ती, बल्कि आज़ादी के बाद के बंगाल की सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परतों को भी उधेड़ती है। परतों के खुलते ही जहाँ नक्सलबाड़ी आंदोलन की रक्तरंजीत भूमि दिखाई देती है तो वहीं समाजवाद के निर्माण के नाम पर यमुनावती की माँ और उसके जैसे तमाम लोग, जो अपने को फालतू और अनावश्यक समझने पर मजबूर किए जाते हैं। वहीं अपनी इजज़्त को बचाए रखने और अपने बच्चे को भरपेट चावल खिलाने के लिए जटी को सुबह- शाम की माँ बनना पड़ता है। और दिन देवी बनकर गुजारना पड़ता है। महाश्वेता देवी की कहानियों में भले ही औरत का मातृ रूप आज से पचास साल पहले का ही क्यों न हो लेकिन इसकी प्रासंगिकता आज भी उतनी ही है जितनी तब रही होगी।.


Related Categories: Available Books Contemporary Fiction Hindi Books Indian Writing Literature & Fiction Newest Products

More Information:
Publisher: Lokbharti Prakashan
Language: Hindi
Binding: Paperback
Pages: 182
ISBN: 9788180319655

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)