Skip to content

Muktibodh Ki Kavitaai

(Hardcover Edition)

by AshokChakradhar
Original price Rs. 450.00
Current price Rs. 360.00


* Eligible for Free Shipping
* 10 Days Easy Replacement Policy
* Additional 10% Saving with Reading Points
(View Condition Chart)

मुक्तिबोध के कला-सिद्धांत कविता को एक सामाजिक-सांस्कृतिक प्रक्रिया मानते हैं, उनकी कविताई इसका जागता जीता प्रमाण है । उनकी कविताई में भ्रमों से परिपूर्ण युगीन यथार्थ का जीवन-जाल तो मिलता है पर उसकी बुनावट में रचनागत अर्थ का कोई भ्रम नहीं है । जो महानुभाव कविता को प्राय : प्राय : एक कलात्मक या शिल्पात्मक प्रक्रिया समझते हैं उनके लिए तो मुक्तियों ध की कविताएं निश्चित रूप से ' जटिल ',' अधूरी ',' आत्मपरक अभिव्यक्ति ', ' भयानक ' या ' ऊबड़-खाबड़, हो सकती हैं, किंतु यदि हम मुक्तिबोध की रचना-प्रक्रियापरक समझ से परिचित हो लें और उनके सूत्र- ' कला एक सामाजिक प्रक्रिया है '- को आधार मानकर उनकी रचनाओं में जाने की कोशिश करें, तो प्रत्यक्ष पाते हैं कि मुक्तिबोध शब्द के असामाजिक प्रयोग के कवि नहीं थे । हां, इतना तो है ही कि उनके कथ्य की सार्थकता तभी पकड़ में आ पाती है जब हम कविता के बारे में उनके स्वयं के दृष्टिकोण से रूबरू हो लें । ऐसा अगर हम कर लें तो उस गलती से भी बचा जा सकता है जो मुक्तिबोध के संदर्भ में जाने या अनजाने होती आ रही है । इस पुस्तक में मुक्तिबो ध की सैद्धांतिक समीक्षाई के आधार पर उनकी छोटी-बड़ी ग्यारह प्रमुख कविताओं की व्यावहारिक समीक्षा की गई है । साथ ही एक साफ-स्प थरा रास्ता बनाने की .कोशिश है कि जिस रास्ते पर चलकर मुक्तिबोध की कविताई तक पहुंचा जा सकता है । अशोक चक्रधर मुक्तिबोध की कविताओं पर कार्य करने वाले प्रारंभिक लेखकों में गिने जाते हैं । यही कारण कि उनकी यह पुस्तक आज भी पाठकों के बीच अपने कई कारणों से अत्यंत उपयोगी बनी हुई है ।


Related Categories: Available Books Collectibles Hardcover Editions Hindi Books Newest Products

More Information:
Publisher: Radhakrishna Prakashan
Language: Hindi
Binding: Hardcover
Pages: 187
ISBN: 9788171193660

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)